Wednesday, October 1, 2014

कत्ल



‘’ये अमीरों की जमात भी बड़ी अजीब सी होती हैं |इन लोगों की हर बात आम इन्सानों से अगल ही होती है|घर के रहन सहन, उनके कपड़े, उनके घर के झगड़े, जैसे हिन्दी सीरियल में दिखाये जाते हैं उनसे एक दम अलग .....यहाँ इन घरों में कोई ऊँची आवाज़ में बात नहीं करता |दो-चार गालियाँ इंग्लिश में निकाली और शटअप कहते हुए अपने अपने कमरे में चले जाते हैं....
ओर तो ओर बहुत से अमीर ऐसे है जो इन्सानों से ज्यादा अपने पालतू कुत्तों से प्यार करते हैं| हम सब से अच्छे तो ये कुत्ते ही हैं |भले ही बेचारे घर में बुजुर्ग अकेलेपन और बेचारगी से दम तोड़ दे, पर उनका डार्लिंग कुत्ता / कुत्तिया अकेली नहीं होनी चाहिए | 
कभी कभी तो मन में आता है कि मैं भी ऐसे ही किसी अमीर के घर का कुत्ता होता तो खूब मज़े में रहता....यार तंग आ गया हूँ ये घर घर में नौकर का काम करते हुए |वो साल कुत्ता होते हुए मालिक के साथ चिपक कर एक ही बिस्तर पर सोता है...वो भी ए.सी में और यहाँ हम साले सारा दिन घर का काम करते हैं तब भी इस उमस भरी गर्मी में पंखे के नीचे बैठने को तरस जाते हैं | खेर मैं अपनी क्या बात कहूँ, इस घर की असली मालिक भी एक इज्ज़तदार जिंदगी,अच्छे खाने,अपने कमरे और ए.सी के लिए तरस गया है, उस बेचारे को भी उसके बेटे ने हम सब के बीच सरवेंट क्वाटर में फेंका हुआ है |क्या फायदा, इतना पैसा होते हुए भी वो हम नौकरों से भी बुरी हालत में है | तरस आता है उस बुड्ढ़े पर|’’

मैं अपनी ही स्पीड से काम करता जा रहा था और अपने अंदर का गुस्सा सब्जी काटते हुए, अपने साथी नौकर से बात करता जा रहा था....मैं भी क्या करता, किस से अपने मन की बात करता, तभी तो यूं ही अपने मन की भड़ास कटती हुई सब्जियों पर निकाल लेता हूँ .....यूं लगता है जैसे मैंने सब्जी काटते हुए किसी का क़तल कर दिया हो |कम से कम मैं इन अमीरों से तो बहुत बेहतर था जो अपने घर के जिन्दा इंसानों को खुद से अलग कर, पल-दर-पल अपनी खोखली अमीरी के चलते वो अपने ही घर के बुज़ुर्ग का कत्ल तो नहीं कर रहा था |

18 comments:

nayee dunia said...

bahut badhiya ...

कविता रावत said...

पल-दर-पल अपनी खोखली अमीरी के चलते वो अपने ही घर के बुज़ुर्ग का कत्ल तो नहीं कर रहा था ..बहुत सटीक
विजयादशमी की शुभकामनायें!

कविता रावत said...

पल-दर-पल अपनी खोखली अमीरी के चलते वो अपने ही घर के बुज़ुर्ग का कत्ल तो नहीं कर रहा था ..बहुत सटीक
विजयादशमी की शुभकामनायें!

सदा said...

भावमय करती प्रस्‍तुति

नश्तरे एहसास ......... said...

वो साल कुत्ता होते हुए मालिक के साथ चिपक कर एक ही बिस्तर पर सोता है...वो भी ए.सी में और यहाँ हम साले सारा दिन घर का काम करते हैं तब भी इस उमस भरी गर्मी में पंखे के नीचे बैठने को तरस जाते हैं |

बहुत ही सुन्दर एवं सत्यता दर्शाती.......आभार !!
बहुत समय लग गया मुझे इस मंच पे वापस आने में पर रचना पढ़ के लग रहा कितना वक़्त सुन्दर सोंच और रचनाओ से दूर रही !!

रश्मि प्रभा... said...

http://bulletinofblog.blogspot.in/2014/10/2014-5.html

प्रेम सरोवर said...

भाव-प्रवण रचना। मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

सु-मन (Suman Kapoor) said...

बहुत बढ़िया

दिगम्बर नासवा said...

कितने ही कडुवे सच लिख दिए इस एक आलेख में ...
ऐसे जीना भी कोई जीना है जहां माता पिता, की इज्जत, और इंसान को इंसान न समझा जाए ... ये अमीरी नहीं सबसे ज्यादा गरीबी है ...

Rohit Singh said...

बात एकदम सही है..बातें अब ऐसी अक्सर देखने को मिलने लगी हैं

Rs Diwraya said...

अतिसुन्दर लेखन
आभार
मेरे ब्लॉग पर स्वागत है।

Unknown said...

मुझे आपका blog बहुत अच्छा लगा। मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। मुझे लगता है कि आपको इस website को देखना चाहिए। यदि आपको यह website पसंद आये तो अपने blog पर इसे Link करें। क्योंकि यह जनकल्याण के लिए हैं।
Health World in Hindi

Unknown said...

प्रिय दोस्त मझे यह Article बहुत अच्छा लगा। आज बहुत से लोग कई प्रकार के रोगों से ग्रस्त है और वे ज्ञान के अभाव में अपने बहुत सारे धन को बरबाद कर देते हैं। उन लोगों को यदि स्वास्थ्य की जानकारियां ठीक प्रकार से मिल जाए तो वे लोग बरवाद होने से बच जायेंगे तथा स्वास्थ भी रहेंगे। मैं ऐसे लोगों को स्वास्थ्य की जानकारियां फ्री में www.Jkhealthworld.com के माध्यम से प्रदान करती हूं। मैं एक Social Worker हूं और जनकल्याण की भावना से यह कार्य कर रही हूं। आप मेरे इस कार्य में मदद करें ताकि अधिक से अधिक लोगों तक ये जानकारियां आसानी से पहुच सकें और वे अपने इलाज स्वयं कर सकें। यदि आपको मेरा यह सुझाव पसंद आया तो इस लिंक को अपने Blog या Website पर जगह दें। धन्यवाद!
Health Care in Hindi

Unknown said...

प्रिय दोस्त मझे यह Article बहुत अच्छा लगा। आज बहुत से लोग कई प्रकार के रोगों से ग्रस्त है और वे ज्ञान के अभाव में अपने बहुत सारे धन को बरबाद कर देते हैं। उन लोगों को यदि स्वास्थ्य की जानकारियां ठीक प्रकार से मिल जाए तो वे लोग बरवाद होने से बच जायेंगे तथा स्वास्थ भी रहेंगे। मैं ऐसे लोगों को स्वास्थ्य की जानकारियां फ्री में www.Jkhealthworld.com के माध्यम से प्रदान करती हूं। मैं एक Social Worker हूं और जनकल्याण की भावना से यह कार्य कर रही हूं। आप मेरे इस कार्य में मदद करें ताकि अधिक से अधिक लोगों तक ये जानकारियां आसानी से पहुच सकें और वे अपने इलाज स्वयं कर सकें। यदि आपको मेरा यह सुझाव पसंद आया तो इस लिंक को अपने Blog या Website पर जगह दें। धन्यवाद!
Health Care in Hindi

Unknown said...

हैल्थ से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी प्राप्त करने के लिए यहां पर Click करें...इसे अपने दोस्तों के पास भी Share करें...
Herbal remedies

Anonymous said...

बहुत बढ़िया...अनूठा कत्ल

Tayal meet Kavita sansar said...

सुन्दर

Anonymous said...

बहुत अच्छा िलखा अपने