Wednesday, July 13, 2011

आज की ताज़ा खबर







आज की ताज़ा खबर


टीवी का शोर
दिमाग है गोल
लिखने का है मन
पर सूझता नहीं कुछ
कैसे कुछ सोचूं
कैसे कुछ नया लिखूं
यहाँ तो बस
नई पुरानी फिल्मो का
है संग
अमिताभ के गाने
संजय दत्त की
ढिशुम ढिशुम
गोविदा के लटके
झटके
हाय अब मै क्या करूँ

न्यूज़ चैनल पर रुकता
रुमोट
फिर वही धमाको से गूजां
मुंबई अपना
फिर हुए सीरियल
धमाके
देखा लाशो का
ढेर
दहकी मुंबई सारी
गूंजी सब तरफ
घायलों की चीखे
फिर शुरू हुई
पुलिस की भाग
दौड़ ...
लग गई
फिर से नाकाबंदी

शुरू हो जाएगी
नेतायों की ...
बयानबाज़ी ...
राजनीती के गलियारे में
शुरू हो जायेगा
अब
आरोपों का दौर .....
ये है आज की
ताज़ा खबर ............





(अनु)

26 comments:

राजीव तनेजा said...

सच!...यही है आज की ताज़ा खबर...
ताजातरीन हालात को बयान करती सुन्दर रचना

nilesh mathur said...

बहुत ही दुखद वाकया है!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

anu ji, kal jab news channels dhamaakon ki vyathaa bayaan kar rahey thay to bahut hee dukh ho raha tha wahaan ke nazaare dekh ke....

Chandra Bhushan Mishra 'Ghafil' said...

आज की ताजा ख़बर ने बहुत ही उद्वेलित किया अन्जू जी!

दिगम्बर नासवा said...

है तो ये ताज़ा खबर पर इन नेताओं को कोई फर्क नहीं पाने वाला ... आज का सच तो यही है कम से कम ...

Mukesh Kumar Sinha said...

kass ye taja khabar...jo karwa de..
par kuchh logo ko maut na dikhaye...
par kassh..aisa hota nahi!

रश्मि प्रभा... said...

aalam hai ki n kuch dikhta hai, n sujhta hai...

B.S .Gurjar said...

न होना तुम यूं परेशां ये तो वक़्त के सारे झमेले है ,
हम तो कल भी तनहा थे आज भी अकेले है ..........ताजा खबर ,.सब सोये हे मगर ..??

mahendra srivastava said...

बहुत बढिया,,
लेकिन लगता है कि आप तो हमलोगों का काम छीन लेंगी।
हाहाहहा

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

दुखद है यह ताज़ा खबर ... अफ़सोस कि दो तीन दिन में सब भूल जाते हैं ..

वीना said...

बहुत दुखद हुआ.....

Dilbag Virk said...

dukhad ghatna

sunder kvita

veerubhai said...

"होते रहेंगें ऐसे धमाके 'देश के भावी प्रधानमन्त्री (मंद मति बालक )श्री राहुल गाँधी कह रहें हैं .बड़े सहज स्वाभाविक लहजे में -ठीक कहते हो रोज़ -बा -रोज़ आतंक वादी का कोई धर्म नहीं होता ,इसका मतलब वह धर्म -निरपेक्ष होता है .अब इंडिया इज ए सेक्युलर डेमोक्रेटिक रिपब्लिक .कैसे पकड़ें सेक्युलर को धर्म संकट बड़ा भारी ,कोई सुलझाओ ,आन बचाओ मुरारी .फूटी किस्मत हमारी

शिखा कौशिक said...

sarthak abhivyakti Anju ji .aabhar

कुमार पलाश said...

समसामयिक घटना पर कविता...अंतिम पंक्तियाँ बेहतर हैं... टंकण की अशुद्धि को ठीक कर लें....

सदा said...

बेहद दुखद घटना है ..सटीक एवं बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

दर्शन कौर धनोए said...

Dukhd ......

Dr (Miss) Sharad Singh said...

वर्तमान दशा का सटीक आकलन....

Maheshwari kaneri said...

बहुत ही दुखद वाकया है!.सटीक एवं बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

संजय भास्कर said...

बहुत दुखद हुआ...सटीक एवं बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

Rakesh Kumar said...

आपने बहुत जोरदार ढंग से आज की ताजा खबर प्रस्तुत की है.
बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आभार.

मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है.

SAJAN.AAWARA said...

man dukhi ho gya...dukhad ghatna...
jai hind jai bharat

Ansh said...

mumbai ko kiski kali nazar lagi hai god nose.....

anu said...

आप सबका शुक्रिया ....

अंश ...आपकी बात सही है ..बेटा जी ....सच में मुंबई को किसी की काली नज़र ही लगी है ....

सतीश सक्सेना said...

यही स्थिति है ....
शुभकामनायें आपको !

ASHOK ARORA said...

अनु मुम्बई पर हुए ताज़ा विस्फोटो पर एक सटीक रचना...धन्यवाद की पात्र हैँ आप...
टीवी का शोर
दिमाग है गोल
लिखने का है मन
न्यूज़ चैनल पर रुकता
रुमोट
फिर वही धमाको से गूजां
मुंबई अपना
शुरू हो जाएगी
नेतायों की ...
बयानबाज़ी
आरोपों का दौर .....
ये है आज की
ताज़ा खबर .......अति सुन्दर...दिल से......