Tuesday, August 27, 2013

प्रेम और जुदाई (एक कृष्ण लीला ...उस लीलाधारी की)



 राधा  और कृष्ण का प्रेम ...जहाँ एक ओर राधा अपने प्रेम भावनाओं में बह रही है ...अपने मन के भाव को कृष्ण के साथ बाँट रही है...वहीँ दूसरी ओर वो अपने मन और कृष्ण को ये समझाने में असमर्थ है कि वो उनके जाने पर कितनी दुखी है ...प्रेम और जुदाई के भाव को लेकर लिखी गई रचना .......
 

मंद मंद समीर की
सूर्योदय बेला में
शीतल स्पर्श से तुम्हारे
पुलकित है मन मेरा |

उमस भरी रजनी की
अलसायी आँखों में
सुरभित झोंकों से
गुंजित है 
बांसुरी वादन तुम्हार |

वायु के मृदु अंक में
खिली हर कली कली
मधुर संगीत की धुन पर
भ्रमर, ये अंग अंग मेरा |

खुले आकाश तले
तुम्हारी ,हथेलियों पर रख कर
शीश अपना
झूमती हूँ मैं,पल पल  ||

******************************
*********
 

कैसे कहूँ अब तुम से 
जाने से तुम्हारे ,विचलित हूँ
झुलस जाऊँगी ,विरह में तुम्हारे

कुछ किरण ,कुछ धूप 
कुछ पकड़ में आने लायक
तुम्हारा ये छलिया रूप
कुछ मंद,कुछ तेज
यह संगम किसको समझाऊँ  मैं
तुम्हारे प्रेम की अग्नि में
तप गई ये प्रेम दीवानी
किसको अब दिखलाऊँ मैं
भस्म हुई फिरती हूँ ,

कैसे तुम्हें समझाऊँ मैं
हे प्रभु ! क्यों इतना स्नेह बरसाते हो
कि मन भ्रमित हो जाता है और
फिर,रिमझिम नैना बरसते हैं |

माना,मैंने
एक दृष्टि तुम्हारी
सारी पीड़ा हर लेती है
क्यों अब इन नैंनो को
उम्र भर...राह तकने की
सज़ा दिए जाते हो
जितनी भीगी प्रेम में तुम्हारी
उतनी ही अब अपनी प्यास दिए जाते हो
होठों पर कैसे लाऊँ 
करुण पुकार मैं अपनी
उम्र भर का इंतज़ार,तुम्हारा
क्यों मुझे दिए जाते हो
कैसे बतलाऊँ तुम्हें ,
न दिन,न रात 
हे!केशव 
साँझ की बेला में घटी ये बात
तुम्हारी ये निशब्द सी लीला

और अब उम्र भर का 
वियोग तुम्हारा
मुझे असहनीय पीड़ा दिए जाता है
 
मुझे  असहनीय पीड़ा दिए जाता है ||

अंजु (अनु)

60 comments:

वसुंधरा पाण्डेय said...

उफ्फ्फ...मुझे ना रुलाओ सखी...
मैं तो बावरी श्याम की...

अति सुन्दर .....एक एक शब्द मनभावन !!

Anju (Anu) Chaudhary said...

शुक्रिया वसुंधरा

अभिषेक कुमार झा अभी said...

अनमोल/अनुपम प्रेम में सम्पूर्ण जज़्बात से लबरेज़
आपके हर शब्द बेहद उत्कृष्ट हैं।
राधा-संग-कृष्ण या गोपी-संग-कृष्ण का जितना वर्णन जाए कम है।
दोनों रचनाएँ आपकी बेहद ख़ूबसूरत हैं, बधाई है।
साथ ही जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं

Manjusha pandey said...

तुम्हारे प्रेम की अग्नि में
तप गई ये प्रेम दीवानी....बेहद सुंदर...

expression said...

अहा!!!
बहुत सुन्दर...बहुत कोमल...

सस्नेह
अनु

ajay yadav said...

अदभुत !अनन्य प्रेम ...भाव |
हे प्रभु ! क्यों इतना स्नेह बरसाते हो
कि मन भ्रमित हो जाता है और
फिर,रिमझिम नैना बरसते हैं |.....
******
latestpost“लीजिए !कलम आपके हाथ में हैं....”

Ranjana Verma said...

प्रेम के रस में भीगा भावयुक्त रचना..... बहुत सुंदर...

Reena Maurya said...

राधा की पीढ़ा दर्शाती बहुत ही कोमल भावपूर्ण रचना...
जय श्री कृष्णा.....

Maheshwari kaneri said...

बहुत सुन्दर..्कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

सरिता भाटिया said...

आपकी यह रचना कल बुधवार (28-08-2013) को ब्लॉग प्रसारण : 99 पर लिंक की गई है कृपया पधारें.
सादर
सरिता भाटिया

sadhana vaid said...

कृष्ण प्रेम में पगी अनुपम, अनूठी एवँ अद्वितीय अभिव्यक्ति ! हर शब्द हृदय को तरल सा करता जाता है ! बहुत ही सुंदर रचना ! कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें !

vijay kumar sappatti said...

badhayi ho ji . jai shree krishna

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत ही सुंदर और कोमल भावमय रचना.

जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं.

रामराम.

Aziz Jaunpuri said...

Behatareen

Aziz Jaunpuri said...

ख़ूबसूरत रचना

Rewa tibrewal said...

ohh didi bahut sundar komal rachan......janamashtami ki apko dhero shubhkamnayein

shorya Malik said...

बहुत सुंदर और प्यारा एहसाश कराती रचना

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया said...

बहुत सुंदर मनोहारी रचना,,,

कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें

RECENT POST : पाँच( दोहे )

हरीश जयपाल माली said...

कृष्णमय हर 'शब्द'... राधामय है 'भाव'...
जन्माष्टमी की शुभ शुभकामनाएं जय श्री राधे कृष्ण

Darshan jangra said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार- 28/08/2013 को
हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः7 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

Darshan jangra said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - बुधवार- 28/08/2013 को
हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः7 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra

Ashok Khachar said...

अति सुन्दर .....एक एक शब्द मनभावन !!

Dr.NISHA MAHARANA said...

bahut accha .....radha ke peeda ko darshati rachna ....

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...




_/\_
जयश्री कृष्ण !
श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !
✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿



रूपचन्द्र शास्त्री मयंक said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
--
सभी पाठकों को चर्चा मंच परिवार की ओर से श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज बुधवार (28-08-2013) को रूपया छा-सठ में फँसा, उन-सठ से हैरान: चर्चा मंच 3051 में "मयंक का कोना" पर भी है!
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

उपासना सियाग said...

बहुत सुन्दर प्रेम और विरह की व्यथा

vibha rani Shrivastava said...

बहुत सुन्दर....
एक एक शब्द मनभावन ....
कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें ....

ब्लॉग बुलेटिन said...

पूरी ब्लॉग बुलेटिन टीम की ओर से आप सभी को श्री कृष्णजन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ !
ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन कृष्ण जन्म सबकी अंतरात्मा में हो मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...



खुले आकाश तले
तुम्हारी ,हथेलियों पर रख कर
शीश अपना
झूमती हूँ मैं,पल पल

वाह वाह !

सुंदर प्रेम-पगी रचना के लिए साधुवाद

Rajendra Swarnkar : राजेन्द्र स्वर्णकार said...




♥ जयश्री कृष्ण ! ♥
_/\_

श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बधाइयां और शुभकामनाएं !
✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿✿

राजेंद्र कुमार said...

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर!!

Anju (Anu) Chaudhary said...

आभार सरिता जी

Anju (Anu) Chaudhary said...

आपका आभार

Anju (Anu) Chaudhary said...

आभार शास्त्री जी

Anju (Anu) Chaudhary said...

राजेंद्र भाई जी ..आपकी हर टिप्पणी के लिए आभार

Mukesh Kumar Sinha said...

behad manbhavan
krishna janmashtami ki shubhkamnayen..:)

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

यह विरह भी शाश्वत है राधा और कृष्ण का .... बहुत सुंदर रचना ... पढ़ते पढ़ते मन राधा हो गया ।

Anju (Anu) Chaudhary said...

आभार संगीता दी

मदन मोहन सक्सेना said...

बहुत उत्कृष्ट अभिव्यक्ति..श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें!

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

sushma 'आहुति' said...

खुबसूरत अभिवयक्ति......श्री कृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें......

Pallavi saxena said...

वाह अनुपम भाव संयोजन और राधा कृष्ण के प्रेम से सजी बहुत ही सुंदर रचना श्री कृष्ण जन्म अष्टमी की हार्दिक शुभकामनायें।

दिगम्बर नासवा said...

राधा कृष्ण के प्रेम के अमरत्व को प्राप्त करती है ये अध्बुध प्रेम रचना ...
कभी कही लगता है कृष्ण होना नहीं बल्कि राष हो जाना ही सार्थक है ... अमर है .. शाश्वत है ...
श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

kavita verma said...

anany prem se virah vyakulta tak sundar abhivyakti ..

Mahesh Barmate said...

बहुत सुंदर :)

Kailash Sharma said...

प्रेम के अहसास की अद्भुत रचना...

Darshan jangra said...

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें,सादर !

Neelima sharma said...

उम्दा रचना

Annapurna Bajpai said...

बहुत सुंदर भावों की अभिव्यक्ति , हार्दिक बधाई ।

अरुण चन्द्र रॉय said...

कृष्णमय करती रचना

महेन्द्र श्रीवास्तव said...

बढिया,बहुत सुंदर

Meena Pathak said...

अद्भुत रचना हार्दिक बधाई ।

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

क्या बात वाह!

रजनीश तिवारी said...

बहुत सुंदर कृष्णमयी रचना ...

राजीव कुमार झा said...

हे!केशव
साँझ की बेला में घटी ये बात
तुम्हारी ये निशब्द सी लीला
और अब उम्र भर का
वियोग तुम्हारा
मुझे असहनीय पीड़ा दिए जाता है
अति सुन्दर .

सतीश सक्सेना said...

भाव पूर्ण रचना ..

Lalit Chahar said...

हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} परिवार की ओर से शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
--
सादर...!
ललित चाहार

शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | यदि आप हरियाणा लेखक के है तो कॉमेंट्स या मेल में आपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज ते समय लिखना HR ना भूलें ।

चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002

- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
- तकनीक शिक्षा हब
- Tech Education HUB

Lalit Chahar said...

हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} परिवार की ओर से शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
--
सादर...!
ललित चाहार

शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | यदि आप हरियाणा लेखक के है तो कॉमेंट्स या मेल में आपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज ते समय लिखना HR ना भूलें ।

चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002

- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
- तकनीक शिक्षा हब
- Tech Education HUB

Lalit Chahar said...

हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} परिवार की ओर से शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
--
सादर...!
ललित चाहार

शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | यदि आप हरियाणा लेखक के है तो कॉमेंट्स या मेल में आपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज ते समय लिखना HR ना भूलें ।

चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002

- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
- तकनीक शिक्षा हब
- Tech Education HUB

Lalit Chahar said...

हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच} परिवार की ओर से शिक्षक दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
--
सादर...!
ललित चाहार

शिक्षक दिवस और हरियाणा ब्‍लागर्स के शुभारंभ पर आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि ब्लॉग लेखकों को एक मंच आपके लिए । कृपया पधारें, आपके विचार मेरे लिए "अमोल" होंगें | आपके नकारत्मक व सकारत्मक विचारों का स्वागत किया जायेगा | यदि आप हरियाणा लेखक के है तो कॉमेंट्स या मेल में आपने ब्लॉग का यू.आर.एल. भेज ते समय लिखना HR ना भूलें ।

चर्चा हम-भी-जिद-के-पक्के-है -- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल चर्चा : अंक-002

- हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}
- तकनीक शिक्षा हब
- Tech Education HUB