Friday, July 31, 2009


अच्छा होता हम बच्चे ही रहते ..
वो कागज़ कि कश्ती ...
वो बारिश का पानी ...
कितन अच्छा तो वो बच्चपन का
खेलना ...मस्ती भरे दिन थे ..मौजो की थी राते
ना कुछ सोचना....न कोई चिंता ...
मस्त मौला सा था सब वातावरण
अच्छा होता हम बच्चे ही रहते ....

क्यों हम बड़े हो गए है ..
दुनिया की रीत में खो गए है
क्यों हम भी मशीनी हो गए है
खो गया है भावनायो का समंदर ...
क्यों अपने भी अब बेगाने हो गए है
क्यों यहाँ बेगाने अपने हो गए है ...........

अच्छा होता हम बच्चे ही रहते ..
कम से कम दिल के सचे तो होते
अब देखो झूठ से लबालब हो गए है ..
चापुलूसी के घने जंगल में गहरे खो गए है
भटक गए है काया और माया के जाल में
यहाँ आके सब खूबसूरती के दंगल में फंस गए है

अच्छा होता हम बच्चे ही रहते .....
लड़ते झगड़ते पर साथ तो रहते
पर अब तो सब्र का पैमाना यू छलकता है
किसीकी छोटी सी बात भी नश्तर सी लगती है
तोडी सब्र की सारी सीमायें ...
हर दोस्त को दुश्मन बनाते चले गए ...

अच्छा होता हम बच्चे ही रहते ....
खेलते वो खेल जो मन में आता हमारे
कम से कम दिलो से तो ना खेलते थे हम ..
कभी छिप जाते ...कभी रूठ जाते
कम से कम संगी साथी हमहे
कही से भी ढूंढ़ तो लाते..
मानते हमहे साथी मिन्नतें करके
परअब क्या किसी से रूठना .और क्या है किसी को मनाना
कौन है अब जिस है अपना बनाना ...
हम पहले भी अकेले थे....और
अब भी अकेले है ......
अच्छा होता हम बच्चे ही रहते ...........
(.....कृति ...अनु..(अंजु)..)

10 comments:

PARVINDER SINGH said...

Sach Acha hota agar hum bache hote,
lekin ye bhi sach hai ki nahi hain ab
,
par aapne jo likha dil ko chhu gayaa
keep it up
God Bless you always

masoomshayer said...

bahut achee kavita lagee shubh kaamanayen

gc said...

बह गया था उस दिन नजाने किस हवा में
कीथी शिकायत तुझसे तू भी एक औरत है
है तू सदा ही मुझ से कुछ छुपाती सी हँस
कर तुने बातों को मुझसे टाला था माना
मैं नहीं समझा औरत के दर्द क्यों छुपाना
चाह रहे मुझसे अपने दिल के जखम मरहम
नहीं पर शायद दिलों को संभालना तो सिखा
तुझसे क्या नहीं समझा था लायक मुझे इसके
मुझ में आंसू नहीं ये सच है कठोर धरा पे गिर
संभला मैं रोना भी ठीक से न सीख पाया था
तुझे तेरे इन आसुओं की कसम देना चाहता
था मगर तेरी सदा की हसी ने मेरे अन्तर मन
को रोका था न ठोकर लग लाये दुबारा तेरे कोमल
मन को बार बार दिल चाहे कहूँ कैसे थाह पाना
चाहूँ खुदा भी तेरी खूबी न नाप पाया तू तो
औरत है यार मेरी सच मैं दोस्ती तेरी भी कभी
समझा पाया तेरे छुपे मन में मेरे लिए दुवाओं के
अदभुत असर को कभी उदंड मन के उत्कंठाओं को
विभस्त न बनने देकर थमा अपने अन्तर मन की डोर
खीचा हर बार गहरे कूपों से मुझे हँसते हंसते क्यों तेरे
इन कुर्बानियों को मैं समझ नहिन पाता तू औरत है
जगत जननी माता का रूप मन में बसा है अब मन में मेरे
पर जानता नही मैं तेरी हर बात को पर मानता तेरी महानता

थैंक्स डीअर अंजू आप मेरे दोस्त हैं

Pintu said...

parstut kavita saddi maasi de blog apno k sath se li gyi hai ,is mein meri anju massi kah rahi hai bachhey kine sachhe te achhey haan,bachho jaise hi saaf dil hona chahida banadya nu ,kyo anju massi theek kahya naa ,wase bahot chalak hagi tu minu choclate nhio leke ditti ,jab aauga to pura choclate da packet luga es wari theek aa,changa apna khayal rakhi

BE WITH TRUTH said...

nice je really yee read kar kar to bachpan me fir see janee kee yaad aa gayee anju , bhut acche kavita likhi hai yee,

अलीम आज़मी said...

aap ki har ek rachna ek se badhkar ek hai ... bahut khoob anju ji ...

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल कल 28 - 07- 2011 को यहाँ भी है

नयी पुरानी हल चल में आज- खामोशी भी कह देती है सारी बातें -

सदा said...

वाह ...बहुत ही बढि़या ।

यशवन्त माथुर (Yashwant Mathur) said...

बहुत बढ़िया।

सादर

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

बचपन सच ही बेफिक्र होता है ..सुन्दर अभिव्यक्ति