Monday, August 8, 2011

भविष्य की रिर्हसल ........


भविष्य की रिर्हसल ..........( रियलिटी शो के ड्रामे .... पर आधारित एक रचना )
आओ हम सब
करे भविष्य की रिर्हसल ....
एक से एक बढ कर
इठलाती ,बलखाती लडकियाँ
रियलिटी शो की ......शोभा बढाती
आयो आज के बेटो की माँ....
एक रियलिटी शो...से खुद के लिए
एक अदद बहू चुन ले
अभी से कर ले हम भी
कल की बुकिंग
पता नहीं कल कोई
बहू मिले या ना मिले
रह ना जाये ...हमारे पूत कुंवारे
होने वाली बहू की डिलिवरी
भले ही ७ साल के बाद मिले ...
इसे एक नई और
अच्छी शुरुआत कहे
या
बिडंबनाओं का मायाजाल...
करना है अब हमें
नए यथार्थ से सामना
सनसनी खेज़ खुलासे के साथ
अब है रियलिटी शो का ज़माना
डांस हो या फेमिली ड्रामा
बच्चे पालना हो या ...
बिग बॉस का वाहियात ड्रामा
या हो बहू की खोज करवाना ......
सब यहाँ सजा के परोसा जाता
अगर हो गालीगलौच बच्चो को सिखाना
तो खोलो टी.वी और
देखो ये रियलिटी शो का ड्रामा

(अनु)

33 comments:

SAJAN.AAWARA said...

Ha ha ha ha..............
Behtreen vayang....
Mam ek booking to mujhe bhi karni padegi.....
Jai hind jai bharat

डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक (उच्चारण) said...

वाह!
आपने तो कविता में ही रियल्टी शो का जीवन्त वर्णन कर दिया!

SAJAN.AAWARA said...

111 follower hone ke liye apko bahut sari bdhaiyan...
Jai hind jai bharat111 follower hone ke liye apko bahut sari bdhaiyan...
Jai hind jai bharat

Dilbag Virk said...

krara vyangy karti rachna

संगीता पुरी said...

अगर हो गालीगलौच बच्चो को सिखाना
तो खोलो टी.वी और
देखो ये रियलिटी शो का ड्रामा

बहुत सही !!

Maheshwari kaneri said...

सच में आज का रियलिटी शो एक मजाक सा लगता है....

उपेन्द्र ' उपेन ' said...

reality showr ki yehi to reality hai... sahi kaha

RAMKRISH said...

sahi farmaaya anu ji. bahut he natak baaji hai

Ram kishan Punia said...

Reality show per bahut behaterin likha hai aapne.

ज़ाकिर अली ‘रजनीश’ (Zakir Ali 'Rajnish') said...

अनु जी, सही कहा आपने। अब तो यही सब रह गया है टीवी पर।

------
ब्‍लॉग के लिए ज़रूरी चीजें!
क्‍या भारतीयों तक पहुँचेगी यह नई चेतना ?

ब्लॉ.ललित शर्मा said...

नेट से फ़ुरसत मिले तो टीवी भी देखें।

अभिषेक मिश्र said...

रियलिटी कविता.
कुछ समय बाद प्रतिद्वन्दिता होगी कि - "अरे आपकी बहू 'रियलिटी शो ' से नहीं आई है !"

इंजी० महेश बारमाटे "माही" said...

bahut khoob... :)

राजीव तनेजा said...

तीखा कटाक्ष करती बढ़िया रचना

संगीता स्वरुप ( गीत ) said...

ये सारे चैनल वाले आते होंगे अभी धरना प्रदर्शन करने

:):) सटीक व्यंग .. अच्छी प्रस्तुति

ASHOK ARORA said...

....आप की ये रचना समाज को आईना दिखती है...की.. वो किधर जा रहा है....कहीँ पतन की और तो नहीँ .....सच में आज के रियलिटी शो एक भद्दा मजाक सा लगते हैँ॥ फूहड मनोरंजन परोसा जा रहा है॥ यदि आप परिवार के साथ से सब देखते हैँ तो...आप धन्य हैम...॥

अशोक अरोरा

SM said...

nice poem take on reality show

अनुपमा त्रिपाठी... said...

समय बर्बाद करना हो तो इससे अच्छा माध्यम और कुछ नहीं है ....!!

सुरेन्द्र "मुल्हिद" said...

sahi baat hai...
satya ujaagar kartee rachnaa!!

amrendra "amar" said...

sarthak aur karara vyangya .badhai

चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ said...

सही फरमाया

वीना said...

बढ़िया कटाक्ष....

Rajiv said...

बहुत सुन्दर प्रस्तुति.एकदम अनूठी.

सहज साहित्य said...

अनु जी यह कड़वी सच्चाई है !टी वी हमारी और हमारे बच्चों की असली मुस्कान , खूबसूरत कल्पना , आत्मीय व्यवहार सबा कुछ छीन ले रहा है ॥ अच्छी कविता के लिए बधाई !

सहज साहित्य said...

हमारे आज के कृत्रिम जीवन और अपसंस्कृति की गाजर घास पर चिन्ता व्यक्त करती हुई अच्छी कविता !

ZEAL said...

It's really difficult to find any sensible program on TV now a days.

Amit Chandra said...

शानदार व्यग्ंय।

Udan Tashtari said...

हा हा! बहुत सटीक!!

संजय भास्कर said...

सटीक व्यंग .....अच्छी कविता के लिए बधाई....अनु जी

S.M.HABIB said...

"सच्ची बात कही अनु ने, करो ड्रामेबाजी
बाज़ार से लाओ बहु, करें सौदेबाजी"

सुन्दर रचना.....
सादर...

जयकृष्ण राय तुषार said...

अनु जी बहुत ही सुन्दर यथार्थपरक कविता आपको बधाई और शुभकामनायें

Mukesh Kumar Sinha said...

ab ye reality drama jo bhi hai, ham sabki pasand hai tabhi to TV wale paros rahe hain...!

waise ye sach hai, jis tarah kanyaon ki sankhya kam rahi hai, wo din dur nahi ki apne bete ki bahu ke liye booking karnee pade...!!

ek sarthak rachna anu:)

सुरेन्द्र सिंह " झंझट " said...

waah...gazab ki abhivyakti.